Knots……..

क्यों बांधे रिश्तो के धागों में,

ये गांठे,

बड़ी अजीब सी ही होती है,

ये गांठे,

टूटे हुए को हमेसा जोड़ती भी है,

ये गांठे,

और कभी सही से जुड़ने भी नहीं देती है,

ये गांठे,

रिश्तो को एक नया सिरा भी देती है,

ये गांठे,

और रिश्तो को कभी नया बनने भी नहीं देती है,

ये गांठे,

तो फिर क्यों बांधे रिश्तो के धागों में,

ये गांठे ।।

बड़ी उलझी हुई सी होती है,

ये गांठे,

धागों को नए सिरों से जोड़ भी देती है,

ये गांठे,

और धागों का वजन भी बढ़ा देती है,

ये गांठे,

मन को सपनो से जोड़ भी देती है,

ये गांठे,

और उसी पल मन को कही उलझा भी देती है,

ये गांठे,

तो फिर क्यों बांधे रिश्तो के धागों में,

ये गांठे ।।

Published by

Poonam

I am a writer who connect her words with dreams, hope and happiness and this connect my words to life.

8 thoughts on “Knots……..”

      1. You have a real talent. I haven’t come across such good hindi poetry… its beautiful. What impresses me most is the fact that you use simple language for complex idea. The end result is this great work of art.

        1. Thankyou so much Lyuba , actually I thought a theme which can change the old mentality that hindi is a tough language, it’s never a rule that always difficult things present in a difficult way, so I choose easy way to present difficult thoughts, and I’m very happy to know that u recognize my this theme, you are the 1st person Lyuba who can truly understand logic of my blog. Thankyou so much dear, you increase my confidence.

Leave a Reply